Sonu Sood ने माँगा घर का पता जब छात्र ने मांगी UPSC की किताबें

जब ख़त्म हो गई थी उम्मीद,तब वो सबका हौसला बनकर सामने आया है।
हम सब बैठे थे घरों में अपने,तब उसने हर जरूरतमंद को घर पहुंचाया है।
जिन आंखो पर भूख से रोते-२ आँसू सूखे थे,वो फिर मुस्कुराहट वापस लाया है।
“Sonu Sood”सर आपने भारत माता के जख्मों पर मरहम लगाया है।

कोरोना काल में लोगो के मसीहा बने bollywood actor Sonu Sood ने जहाँ अपनी दरियादिली जारी रखी, वही उनसे लोगो ने अपनी उम्मीदे भी बरक़रार रखी। सोनू ने अभी कुछ समय पहले एक किसान परिवार की बेटियों को ट्रेक्टर भेजा था। लोगो को घर भेजने के अलावा हर तरह की मदद करने के लिए आगे आ रहे हैं सोनू सूद, वही सोनू मदद करने के साथ-साथ सोशल मीडिया पे भी लगातार एक्टिव रहते हैं, और तुरंत लोगो को रिप्लाई भी करते हैं।

सोनू सूद कहते हैं मेरे पास करोडो लोगो की दुआ हैं, और क्या चाहिए। हाल ही में एक स्टूडेंट ने ट्वीट कर किताब खरीदने में मदद मांगी हैं। स्टूडेंट की इस परेशानी को दूर करते हुए सोनू सूद ने भी मदद का हाथ बढ़ाया।

स्टूडेंट ने ट्वीट कर कहा था- ‘सर प्लीज मुझे यूपीएससी की किताबें खरीदने में मदद करें। मैं इन किताबों के बगैर तैयारी शुरू नहीं कर सकता। किताब दिलाने में मेरी मदद करें’। छात्र की इस रिक्वेस्ट पर सोनू ने भी ट्वीट कर उससे उसका पता मांगा और कहा कि किताबें आपके दरवाजे तक पहुंच जाएंगी।

Sonu Sood- खिलाड़ी से कहा अगले हफ्ते सर्जरी होगी तैयार रहो

बिहार के jamui का एक athlete Sudama yadav जिसको हांगकांग में आयोजित थर्ड यूथ एशियन चैंपियनशिप में खेलने से पहले ही घुटने में चोट लग गयी थी। चैंपियनशिप 13 से 17 मार्च तक चली थी, उसके बाद भारत लौटने के बाद सुदामा की तकलीफ बढ़ती रही और घुटने का कोई समुचित इलाज नहीं हो पाया। साथ ही खेल एसोसिएशन की मक्कारी की वजह से उभरते हुए एथलीट को अलग कर दिया गया। सुदामा के एक दोस्त ने सोनू से मदद के लिए कहा तो सोनू ने बिना कोई वक्त गवाएं लिखा “देश का गौरव है सुदामा, मैडल लेने की तैयारी करो भाई, अगले हफ्ते सर्जरी करेंगे।

सोनू ने लॉकडाउन के दौरान कई प्रवासी मजदूरों के उनके घर जाने का इंतजाम किया था। इतना ही नहीं अब वे विदेश में फंसे छात्रों को वापस घर लाने में लगे हुए हैं। उन्होंने कुछ कंपन‍ियों के साथ करार कर, प्रवासी भाई-बंधुओं को नौकरी दिलाने का भी वादा किया है। और लगातार उनका लोगो की मदद करना जारी हैं।

Rahat Indori मशहूर शायर जाते जाते कह गए कुछ ऐसा